Home

क्या भरोसा है जिंदगी का – Kya bharosa hai is jindagi ka

Ek din shikayat tumhe waqt or logo se nahi, balki khud se hogi ki jindagi samne thi or tum duniya me uljhe rahe. kya bharosa hai is jindagi ka एक दिन शिकायत तुम्हें वक्त और लोगों से नहीं, बल्कि खुद से होगी कि जिंदगी सामने थी और तुम दुनिया में उलझे रहे
Read More

अगर तुम पीछे हटना चाहते हो तो काम शुरू क्यों किया था? Thoughts on success

Agar tum piche hatna chahte ho to apne aap se puchna ki tumne is kaam ko shuru kyo kiya tha? Thoughts on success अगर तुम पीछे हटना चाहते हो तो, अपने आप से पूछना कि तुमने इस काम को शुरू क्यों किया था?
Read More

इंसान की वास्तविक हो जी धन नहीं बल्कि उसके विचार है

Insaan ki vastavik punji dhan nahi balki uske vichar hai, kyoki dhan to khariddari me dusro ke paas chala jata hai, lekin vichar apne paas hi rahte hai. Acchi Bate – अच्छी बातें इंसान की वास्तविक हो जी धन नहीं बल्कि उसके विचार है क्योंकि धन तो खरीदारी में दूसरों के पास चले जाता है लेकिन विचार अपने पास ही रहते हैं
Read More

अपनों को अपना बनाए रखना है मुश्किल है

Badappan vah gun hai jo bad se nahi balki sanskaro se prapt hota hai, parayo ko apna banana utna mushkil nahi jitana apno ko apna banaye rakhana hai. बड़प्पन वह गुण है जो पद से नहीं बल्कि संस्कारों से प्राप्त होता है, पराया को अपना बनाना उतना मुश्किल नहीं जितना अपनों को अपना बनाए रखना है.
Read More

अपनी जिंदगी के किसी भी दिन को मत कोसना

Apni jindagi ke kisi bhi din ko mat kosna, kyoki accha din khushiya lata hai or bura din anubhav, ek safal Jindagi ke liye dono jaruri hai. अपनी जिंदगी के किसी भी दिन को मत कोसना, क्योंकि अच्छा दिन खुशियां लाता है और बुरा दिन अनुभव एक सफल जिंदगी के लिए दोनों ही जरूरी है
Read More

हर एक की सुनो और हर एक से सीखो

  Har ek ki suno or har se sikho, kyoki har koi sab kuch nahi janta lekin har ek kuch na kuch jarrur janta hai हर एक की सुनो और हर एक से सीखो, क्योंकि हर कोई सब कुछ नहीं जानता, लेकिन हर एक कुछ ना कुछ जरूर जानता है
Read More

निंदा से घबराकर कभी अपने लक्ष्य को ना छोड़े

Ninda se ghabrakar kabhi apne lakshya ko na chode, Lakshya ko kadi mehnat karke hi hansil kiya ja sakta hai. निंदा से घबराकर कभी अपने लक्ष्य को ना छोड़े, लक्ष्य को कड़ी मेहनत करके ही हासिल किया जा सकता है
Read More
error: Content is protected !!