Home

हमेशा शांत रहे जीवन में खुद को बहुत मजबूत पाएंगे

 Hamesh shant rhe jivan me khud ko bahut majbut paenge kyoki loha thanda rahane pr hi majbut rahata hai lekin  garm rahane pr use kisi bhi akar me thala ja skta hai हमेशा शांत रहे जीवन में खुद को बहुत मजबूत पाएंगे क्योंकि लोहा ठंडा रहने पर ही मजबूत रहता है लेकिन गर्म रहने पर उसे किसी भी आकार में ढाला जा सकता है 
Read More

कभी-कभी गुच्छे की आखिरी चाबी भी ताला खोल देती है

 lagatar ho rhi asafaltao se nirash nhi hona chahiye, kyoki kbhi kbhi guchche ki akhari chabi bhi tala khol deti hai. लगातार हो रही असफलताओं से निराश नहीं होना चाहिए, क्योंकि कभी-कभी गुच्छे की आखिरी चाबी भी ताला खोल देती है
Read More

अमीर लोग खुद बहुत ही स्मार्ट नहीं होते

 jyadatar amir log khud bhut smart nhi hote lekin unhe pata hai kis tarah se smart logo ko estemal karke kam karvaya jata hai ज्यादातर अमीर लोग खुद बहुत ही स्मार्ट नहीं होते लेकिन उन्हें पता है किस तरह से ही स्मार्ट लोगों को इस्तेमाल करके काम करवाया जाता है ।
Read More

कर्म का तूफ़ान पैदा करें

 Bhagya ke darvaje par sar pitne se behatar hai, ki karm ka tufan paida kare, sare band darvaje khud b khud khul jaenge भाग्य के दरवाजे पर सर पीटने से बेहतर है, कि कर्म का तूफ़ान पैदा करें सारे बंद दरवाजे खुद-ब-खुद खुल जाएंगे
Read More

जीवन अपार संभावनाओं की नदी के समान है

 jivan apar sambhavnao ki nadi ke saman hai, yaha aap par nirbhar karta hai, ki aap  chammach lekar khade hai ya balti. जीवन अपार संभावनाओं की नदी के समान है, यह आप पर निर्भर करता है कि आप चम्मच लेकर खड़े हैं या बाल्टी ।
Read More

स्वाभिमानी रहे अभिमानी नहीं

 kisi ka rasal svabhav uski kamjori nhi hota  sansar me pani se saral kuch nhi hai, kintu  uska bahav badi se badi chattaqn ke bhi tukade kar deta hai. svabhimani rahe abhimani nhi. किसी का सरल स्वभाव उसकी कमजोरी नहीं होता । संसार में पानी से सरल कुछ नहीं है, किंतु उसका वह बड़ी से बड़ी चट्टान केवी टुकड़े कर देता है । स्वाभिमानी रहे अभिमानी नहीं
Read More

सफलता चलकर नहीं आती हमें उस तो पहुंचना पड़ता है

 Safalta chalkar nhi aati hame us tak pahuchna padta hai, thik usi tarah jis tarah bhagvan ne har pakshi ke liye bhojan to diya hai par uske ghosle me nhi सफलता चलकर नहीं आती हमें उस तो पहुंचना पड़ता है, ठीक उसी तरह जिस तरह भगवान ने हर पक्षी के लिए भोजन तो दिया है पर उसके घोसले में नहीं ।
Read More
error: Content is protected !!