New Shayari – चिराग आंधियों में भी जलते रहे।

Nigaho me manzil thi, gire or gir kar sambhalte rhe
havao ne to bahut koshish ki,
magar chirag aandhiyo me bhi jalte rhe.

New Shayari

New Shayari

निगाहों में मंजि़ल थी, गिरे और गिर कर संभलते रहे
हवाओ ने तो बहुत कोशिश की,
मगर चिराग आंधियों में भी जलते रहे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: