Dard Bhari Shayari – रोज कोई ना कोई नाराज हो जाता है

Rishto ko sambhalte sambhalte thkan si hone lagi hai,
roj koi na koi naraj ho jata hai.

Dard Bhari Shayari

Dard Bhari Shayari

रिश्तो को सम्भालते सम्भालते, थकान सी होने लगी है,
रोज कोई ना कोई नाराज हो जाता है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: