सफलता चलकर नहीं आती हमें उस तो पहुंचना पड़ता है

 Safalta chalkar nhi aati hame us tak pahuchna padta hai,
thik usi tarah jis tarah bhagvan ne har pakshi ke liye
bhojan to diya hai par uske ghosle me nhi

सफलता चलकर नहीं आती हमें उस तो पहुंचना पड़ता है,
ठीक उसी तरह जिस तरह भगवान ने हर पक्षी के लिए
भोजन तो दिया है पर उसके घोसले में नहीं ।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: